Article

Pipe Earthing | पाइप अर्थिंग क्या है और कैसे करे

 इस आर्टिकल में हम Pipe Earthing के बारे में जानेंगे की पाइप अर्थिंग क्या है , पाइप अर्थिंग का उपयोग कहाँ किया जाता है , पाइप अर्थिंग करने के लिए किन - किन सामग्री की आवश्यकता होती है साथ ही पाइप अर्थिंग कैसे करते है | 
हे नमस्कार दोस्तों मै सोनू कुमार कछावा स्वागत करता हूँ आपका एस. के. आर्टिकल डॉट कॉम में ... आइये Pipe Earthing विस्तार से पढ़ते है -
pipe earthing
pipe earthing

Pipe Earthing क्या है 

किसी भी धातु की बॉडी या आवरण वाली मशीन / उपकरण में जब लीकेज करंट प्रवाहित होने लगता है तो इससे प्राणियों को विद्युत् झटका लगने का खतरा निरंतर बना रहता है | 

इस लीकेज करंट के कारण विद्युत् झटके से बचने तथा मशीनों को सुरक्षित रखने के लिए अर्थिंग का उपयोग किया जाता है | 
जिसमे अर्थिंग के दो प्रकार होते है - 1. पाइप अर्थिंग 2. प्लेट अर्थिंग 

यदि हम संक्षिप्त में जाने की pipe earthing क्या है तो pipe earthing अर्थिंग करने का एक एसा तरीका है जिसमे मुख्य अर्थ इलेक्ट्रोड के रूप में पृथ्वी से अर्थ प्राप्त करने के लिए GI अथवा कॉपर के पाइप का उपयोग किया जाता है | इसी कारण से इसे पाइप अर्थिंग कहा गया है | 

पाइप अर्थिंग का उपयोग वेसे तो सभी स्थानों पर किया जा सकता है लेकिन मोस्टली यह विधि ऐसे स्थानों या क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है जहाँ सुखा अधिक हो , बारिश कम होती है और अर्थिंग प्रतिरोध का मान अधिक होने की संभावना हो | 

Pipe Earthing Details

पाइप अर्थिंग के लिए किन - किन सामग्री की आवश्यकता होती है 

एक सुरक्षित एवं टिकाऊ pipe Earthing करने के लिए निम्न सामग्री की आवश्यकता होती है  - 

1. GI Pipe -  अर्थिंग पाइप इलेक्ट्रोड के लिए उपयोग किया जाता है जिसमे 38mm व्यास  , लम्बाई 2.5 मीटर और इस पाइप में 12 mm व्यास के कई छेद बने हो | 

2. GI Pipe - मेन इलेक्ट्रोड से अर्थिंग प्राप्त कर बहार देने के लिए इसी पाइप का उपयोग करना होता है | इसकी साइज़ 12.7 mm व्यास की होती है | अर्थिंग पॉइंट से अर्थिंग प्राप्त करने के लिए अर्थ तार इसी पाइप से जोड़ा जाता है | 

3. GI अर्थिंग तार - भवन तक अर्थिंग पहुचाने के लिए GI से बने अर्थिंग तार का उपयोग करना होता है | जिसकी साइज़ 8 SWG होती है | 

4. GI Pipe - अर्थिंग में नमी बनाये रखने के लिए पानी डालने हेतु इसमे एक और GI का pipe लगाया जाता है | जिसकी साइज़ 19.5 व्यास तथा लम्बाई 95 cm होती है |

5. नमक व चारकोल - अर्थिंग प्रतिरोध कम करने तथा बेहतर अर्थिंग प्राप्त करने के लिए इसमें ड्लेदार नमक तथा चारकोल का उपयोग किया जाया है | 

6. कास्ट आयरन का ढक्कन - अर्थिंग में पानी डालने वाले पाइप को ढकने के लिए कास्ट आयरन के ढक्कन का उपयोग किया जाता है | जिसकी साइज़ 30cm x 30cm होती है | 

7. फनल - तार की जाली के साथ बना हुआ फनल 

8. नट बोल्ट एवं वाशर - वाशर 12.7 आंतरिक व्यास वाले तथा सभी पाइप एवं वायर को कसने के लिए नट - बोल्ट की आवश्यकता होगी | 


Pipe Earthing कैसे करे 
एक टिकाऊ तथा सुरक्षित अर्थिंग बनाने के लिए आप निम्न विधि का उपयोग कर सकते है - 

👉 पाइप अर्थिंग करने के लिए सर्वप्रथम 30cm लम्बाई तथा 30cm चौडाई के आकार में एक गड्डा खोदा जाता है | 

👉 इस गड्डे की गहराई आप 2.5 मीटर से 4 मीटर तक रख सकते हो | 

👉 अब इसमें 38mm व्यास वाले पाइप के अन्दर 19.5 mm व्यास वाला पाइप कस दिया जाता है | 

👉 अब गड्डे में 38mm वाला पाइप रखकर इसके चरों और नमक - चारकोल की 15 - 15 cm की परते बना देते है | लगभग 2 मीटर की ऊँचाई तक यह परते बनाना है | 

👉 अब बचे हुए गड्डे में गड्डे से निकली हुयी मिट्टी के साथ नमक व चारकोल मिलाकर गड्डे को भर देते है | 

👉 अब 38mm वाले पाइप के साथ जो 19.5mm वाला पाइप जोड़ा था उसके उपरी सिरे पर 12.7mm वाले पाइप के साथ 8 SWG वाला GI वायर कस देते है | 

👉 12.7mm वाला पाइप आपका अर्थिंग पाइप होता है जिसका उपयोग आप अर्थिंग प्राप्त करने के लिए करते है | 

👉 19.5mm वाले पाइप के मुह पर एक फनल लगाकर उसके चारो और 30cm x 30cm x 30cm का सीमेंट - कंक्रीट का बॉक्स बना देते है जिसके ऊपर कास्ट आयरन का दक्कन लगाया जाता है | 

👉 अब इस फनल की सहायता से गड्डे में पानी डाले और अर्थ टेस्टर से अर्थ प्रतिरोध चेक कर अर्थिंग का उपयोग करे | 

यह भी पढ़े - 


परीक्षा के लिए याद रखने योग्य बिन्दु-

  • पाइप अर्थिंग में अर्थ इलेक्ट्रोड ( GI पाइप ) का साइज़ 38mm होता है |
  • अर्थ तार  की साइज़ 8 SWG होती है |
  • अर्थिंग के लिए चारकोल और नमक का उपयोग किया जाता है |
  • अर्थिंग प्रतिरोध कम करने के लिए अर्थिंग में पानी डाला जाता है |
  • अर्थिंग प्रतिरोध मापने के लिए 'अर्थ टेस्टर ' का उपयोग किया जाता है | 
  • वायरिंग में अर्थ वायर का रंग हरा रखा जाता है |
  • GI का पूरा  नाम गैल्वेनाइज्ड आयरन है |


उपरोक्त विधि के अनुसार हमने कई जगह अर्थिंग की है और यह बेहतर तरीके से काम करती है | 
यदि यह आर्टिकल आपको पसंद आता है तो कृपया साथियों के साथ जरुर शेयर करे और इसी तरह के आर्टिकल के अपडेट की सुचना पाने के लिए हमे सोशल मीडिया पर फॉलो करे |

No comments:

Post a Comment