Article

सोल्डरिंग क्या है और Soldering कितने प्रकार की होती है

 इलेक्ट्रिसिटी से जुड़े किसी भी कार्य में यदि थोड़ी सी भी लापरवाही की जाती है तो यह किसी न किसी नुकशान का कारण जरुर बनती है | ऐसे ही यदि जब कही इलेक्ट्रिक तारों में या किसी वैद्युतिक पुर्जे में जोड़ लगाया जाता है तो उस जोड़ से विद्युत उर्जा का तथा अन्य प्रकार के नुकशान का होना तय होता है | तारों के जोड़ो को मजबूती देने के लिए हमें सोल्डरिंग की आवश्यकता होती है | आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे ( Soldering in Hindi ) सोल्डरिंग क्या होती है , और सोल्डरिंग कितने प्रकार की होती है |

नमस्कार और स्वागत है आपका एस. के. आर्टिकल डॉट कॉम में ......

Soldering in hindi


सोल्डरिंग क्या है | Soldering in HIndi

वैद्युतिक क्षेत्र में सोल्डरिंग को एक प्रकार की प्रक्रिया कहा जाता है जिसमें दो समान या भिन्न - भिन्न धातुओं को आपस में किसी तीसरी धातु के द्वारा जोड़ा जाता है | जिस तीसरी धातु के द्वारा दोनों धातुओं को आपस में जोड़ा जाता है उसे फिलर या सोल्डर के नाम से जाना जाता है | 


इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों में तो बिना सोल्डरिंग के किसी भी उपकरण का निर्माण एक असंभव सा कार्य जान पड़ता है | लगभग सभी प्रकार के सर्किट बोर्ड में बहुत सारे पुर्जों को आपस में जोड़ने के लिए सोल्डरिंग का उपयोग करना ही पड़ता है | 

किसी भी जोड़ वाले स्थान पर सोल्डरिंग का उपयोग करने से जोड़ यांत्रिक रूप से तो मजबूत होता ही है साथ ही जोड़ वाले स्थान में होने वाले वोल्टेज ड्राप में कमी आती है और विद्युत धारा प्रवाह आसान हो जाती है | 


सोल्डरिंग के लिए सोल्डरिंग प्रकिया में सोल्डरिंग आयरन , सोल्डरिंग फ्लक्स और फिलर ( सोल्डर ) आदि का उपयोग करना होता है | Soldering में जोड़ के अनुसार अलग -अलग वाटेज क्षमता (विद्युत् शक्ति ) का सोल्डरिंग आयरन और फिलर का उपयोग करना होता है | 

सोल्डरिंग की विधियाँ कौन - कौन सी है 

जोड़ वाले उपकरण , जोड़ के आकार , धातु तथा स्थान के अनुसार सोल्डरिंग की अलग -अलग विधियों का उपयोग किया जाता है -

निष्कर्ष 
तो इस आर्टिकल में हमने जाना Soldering क्या है और Soldering कितने प्रकार की होती है | उम्मीद करते है यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा | हमारे नये आर्टिकल की अपडेट पाने के लिए आप हमसे सोशल मीडिया पर जुड़ सकते है | और यदि इस आर्टिकल से जुदा आपका कोई सवाल है तो कृपया हमें निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें |और यदि आर्टिकल पसंद आता है तो अपने साथियों के साथ जरुर शेयर करें | 

No comments:

Post a Comment