धारिता क्या है | Capacitance In Hindi

इस पोस्ट में हमने बताया है किसी संधारित्र की धारिता क्या होती है ( Capacitance in Hindi ) साथ ही इस आर्टिकल में आप पढ़ेंगे किसी संधारित्र की धारिता को प्रभावित करने वाले कारक कौन कौन से है |   नमस्कार और स्वागत है आपका एस.के.आर्टिकल डॉट कॉम में …….

Capacitance In Hindi

Capacitance In Hindi

कैपेसिटेन्सविद्युत् आवेश एकत्रित करने की क्षमता को कहा जाता है , यह दो चालक प्लेटों को किसी अचालक पदार्थ से अलग करने से प्राप्त होता है | इन चालक प्लेटों में ही विद्युत् आवेश एकत्रित होता है | और जिस युक्ति में यह क्रिया होती है उसे कैपेसिटर कहा जाता है |  

किसी संधारित्र की Capacitance को प्रभावित करने के लिए निम्न लिखित चार कारक होते है 

  • 1 प्लेंटों का क्षेत्रफल
  • 2 प्लेंटों के बीच की दुरी 
  • 3 प्लेंटों के बीच परावैद्युत माध्यम का प्रकार 
  • 4 तापमान


1. प्लेटों का क्षेत्रफल – कैपेसिटर की कैपिसिटी प्लेटों के क्षेत्रफल के समानुपाती होती है अर्थात जब प्लेटों का क्षेत्रफल बढाया जाता है तो कैपेसिटर की धारिता का मान भी बढता जाता हे |

2. प्लेटों के बिच की दुरी – संधारित्र की धारिता प्लाटों के बिच की दुरी के वर्ग के व्युत्कामानुपति होती है अर्थात जब प्लेटों के बिच स्पेस बढाया जाता है तो कैपेसीटर की धारिता कम होती जाती है |

3 प्लेटो के बीच परावैद्युत माध्यम का प्रकार –  संधारित्र की प्लेटो के बीच इन्सुलेटिंग पदार्थ भरा जाता है । अलग अलग प्रकार के इन्सुलेटिंग पदार्थ का प्रयोग का कैपेसिटर से अलग अलग धारिता प्राप्त की जा सकती है ।

4 तापमान – कैपेसिटर की धारिता तापमान के व्युत्क्रमानुपाती होती है । जैसा की हम जानते है की तापमान बढने से प्रतिरोधों का प्रतिरोध घटता है तो ठीक इसी प्रकार विद्युतशिलता भी घटती है और विद्युत शिलता घटने से धारिता भी घटती है । 

इन्हें भी पढ़िए :- 

Conclusion :- “आपको यदि यह आर्टिकल Capacitance In Hindi पसंद आया हो तो कृपया अपने साथियो के साथ अवश्य शेयर करे। और हमारे नये आर्टिकल की जानकारी के लिए कृपया हमे सोशल मीडिया पर फॉलो  करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!