कृत्रिम श्वास किसे कहते है तथा कृत्रिम श्वास की कोन कौन सी विधियॉ है | Artificial Respiration in Hindi

इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे कृत्रिम श्वास किसे कहते है तथा कृत्रिम श्वास की कोन कौन सी विधियॉ है [ Artificial Respiration in Hindi ] यह आर्टिकल इलेक्ट्रीशियन के प्रथम वर्ष के ट्रेनी के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है |   

Artificial Respiration in Hindi

कृत्रिम श्वास किसे कहते है | Artificial Respiration in Hindi

जब किसी व्यक्ति को विद्युत झटका लगता है तो वह बेहोश हो जाता है इस अवस्था में उसके हृदय की गति कम हो जाती है जिसके कारण उसे श्वास लेने में परेशानी आती है इसके लिए मानव द्वारा निर्मित श्वास प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है जिसे कृत्रिम श्वास (Artificial Respiration in Hindi) कहते है।

कृत्रिम श्वास की कौन कौन सी विधियॉ है

कृत्रिम श्वास की निम्नलिखित चार विधियॉ है

  1. शैफर विधि 
  2. सिल्वेस्टर विधि 
  3. मुंह से मुंह में हवा भरना | मुहं से नाक में हवा भरना 
  4. नेल्सन प्रणाली या श्वास यंत्र विधि 

प्रथम विधि शैफर विधि 

इस विधि का उपयोग तब किया जाता है जब पिडित व्यक्ति की पीठ पर छाले हो गये हो या पीठ वाला हिस्सा विद्युत झटके के कारण जल गया हो ।इस विधि में पीड़ित को पेट के बल लिटाया जाता है |  

द्वितिय विधि सिलवेस्टर विधि 

इस विधि का उपयोग तब किया जाता है जब पिडित व्यक्ति की छाती पर विद्युत झटके से घाव हो गये हो या छाती जल गयी हो ।इस विधि में पीड़ित को पीठ के बल लिटाया जाता है |  

तृतीय विधि  

यह विधि उपरोक्त दोनो विधियों से तेज कार्य करती है इससे पिडित व्यक्ति को तुरन्त राहत मिलती है । यह दो प्रकार की होती है |

  1. मुह से मुह मे हवा भरना
  2. मुह से नाक में हवा भरना

चतुर्थ विधि नेल्सन प्रणाली या श्वास यंत्र विधि 

इस विधि मे एक श्वास यंत्र का उपयोग किया जाता है । इस विधि का उपयोग तब किया जाता है जब व्यक्ति को श्वास लेने में बहुत ज्यादा परेशानी आ रही हो ।

यह भी पढिये – 

Conclusion :-  तो फ्रेंड्स इस आर्टिकल में आपने पढ़ा  कृत्रिम श्वास किसे कहते है तथा कृत्रिम श्वास की कोन कौन सी विधियॉ है | Artificial Respiration in Hindi | उम्मीद करते हे यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा | इस आर्टिकल को कृपया अपने साथियों के साथ भी जरुर शेयर करे | और इसी प्रकार के इलेक्ट्रिकल से जुड़े आर्टिकल पढने के लिए कृपया हमारे ग्रुप्स ज्वाइन करे बिलकुल फ्री |

Leave a Comment

error: Content is protected !!