सोल्डरिंग फ्लक्स पेस्ट क्या है | Soldering Flux Paste

Soldering Flux Paste – सोल्डरिंग करते समय हमें कई सामग्री का उपयोग करना होता है | इन्ही सामग्री में से एक है Soldering Flux Paste | यदि आप भी जानना चाहते है की सोल्डरिंग फ्लक्स पेस्ट क्या है और सोल्डरिंग फ्लक्स पेस्ट कितने प्रकार के होते है तो यह पोस्ट आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकती है |

Soldering Flux Paste in hindi
Soldering Flux Paste in hindi

सोल्डरिंग फ्लक्स क्या है

दो धातुओं को आपस में एक सोल्डर द्वारा जोड़ने की क्रिया को सोल्डरिंग कहते हैं | यह एक एलॉय है तथा इसमें एलॉय का गलनांक जोड़ने वाली धातु से काफी कम होता है | तारों के जोड़ को मजबूत प्रथा विद्युत प्रवाह में रजिस्टेंस को कम करने के लिए सोल्डरिंग की आवश्यकता पड़ती है |

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन करे

हवा में ऑक्सीजन होने के कारण जब धातु को गर्म किया जाता है तो इस पर ऑक्साइड की एक तह जम जाती है |उसे हटाने के लिए जिस पदार्थ का प्रयोग किया जाता है, उसे फ्लक्स या सोल्डरिंग फ्लक्स पेस्ट कहते हैं |

फ्लक्स का गलनांक हमेशा सोल्डर के गलनांक से कम होता है | तथा यह सोल्डर की क्रिया में एक प्रकार से सहायक के रूप में काम करता है| फ्लक्स भिन्न-भिन्न प्रकार के होते हैं तथा पाउडर, पेस्ट और तरल के रूप में मिलते हैं | फ्लक्स, पाउडर पेस्ट तथा द्रव के रूप में मिलता है |

फ्लक्स का उपयोग जोड़ी जाने वाली सतह को ऑक्सीडेशन से बचाने तथा सोल्डर को पिघलाने के लिए किया जाता है | यह सोल्डर की पकड़ मजबूत बनाने में सहायता करता है | यह जोड़ी जाने वाली सतह को साफ रखता है तथा सोल्डर को फैलाने में सहायता करता है | फ्लक्स के चयन में वातावरण तापक्रम पर विशेष ध्यान दिया जाता है |

[ यह भी पढ़ें ]

फ्लक्स कितने प्रकार के होते है | Types Of Soldering Flux

फ्लक्स दो प्रकार के होते हैं – 1. कोरोसिव फ्लक्स 2. नॉन-कोरोसिव फ्लक्स

कोरोसिव फ्लक्स

ऐसे फ्लक्स जिसमें तेजाब या क्षार की मात्रा होती है उन्हें कोरोसिव फ्लक्स कहते हैं |ऐसे फ्लक्स यदि धातु पर लगे रहे जाए तो यह धातु को क्षति पहुंचाते हैं तथा इनसे धातु पर जंग भी लग जाती है जैसे जिंक क्लोराइड, हाइड्रोक्लोरिक एसिड, नौसादर इत्यादि |

कोरोसिव फ्लक्स के प्रकार

1.) हाइड्रोक्लोरिक एसिड = हाइड्रोक्लोरिक एसिड तरह के रूप में होता है | हवा के सम्पर्क मे आने पर धुंआ देता है | इसे पानी में मिलाकर प्रयोग करते हैं जी. आई. (गेलवेनाइज्ड) शीटों के लिए हाइड्रोक्लोराइड प्रयोग किया जाता है |जब इसका प्रयोग जिंक पर किया जाता है तो रासायनिक क्रिया के कारण यह जिंक क्लोराइड बन जाता है |

2.) जिंक क्लोराइड = इसका प्रयोग पीतल की शीटों , तांबे की शीटों , टिन की शीटों आदी की सोल्डरिंग के लिए होता है | सोल्डरिंग के पश्चात फ्लक्स को पानी से अच्छी तरह साफ करना चाहिए | इसका प्रयोग माइल्ड स्टील की सोल्डरिंग में भी किया जाता है |

3.) अमोनिया क्लोराइड = यह सॉल्ट अमोनिया भी कहलाता है | इसका प्रयोग तांबे व स्टील पार्ट्स की सोल्डरिंग में किया जाता है | ड्राई बैट्री में इसे इलेक्ट्रोलाइट के रूप में प्रयोग किया जाता है सोल्डरिंग मे‌ यह तरल पदार्थ के रूप में प्रयोग होता है | गर्म करने पर यह भाप के रूप में उड़ जाता है | स्टेनलैस स्टील शीट की सोल्डरिंग में हाइड्रोक्लोराइड, अमोनियम क्लोराइड तथा जिंक क्लोराइड का मिश्रण प्रयोग किया जाता है |

[ यह भी पढ़ें ]

नॉन-कोरोसिव फ्लक्स

नॉन कोरोसिव फ्लक्स में क्षार तथा तेजाब की मात्रा बिल्कुल भी नहीं होती है | ऐसे फ्लक्स यदि धातु की सतह पर अधिक समय तक रह जाए तो किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचता है जैसे तारपीन का तेल, सुहागा आदि |

नॉन-कोरोसिव फ्लक्स के प्रकार

1.) ओलिव ऑयल = यह वनस्पति तेल होता है | यह सोल्डरिंग पर हल्के तेजाब के रूप में कार्य करता है |

2.) टैरो = इसे जानवरों की चर्बी से बनाते हैं प्लंबिंग कार्य में शीटों और पाइपों की सोल्डरिंग में इसका प्रयोग होता है |

3.) बोरेक्स = इसका प्रयोग ब्रेजिंग मे जाता है |

4.) पेस्ट = रेजिन, जिंक क्लोराइड एवं ग्लिसरीन को मिलाकर पेस्ट बनाते हैं | स्कॉर्पियो रेडियो, टीवी इलेक्ट्रॉनिक कार्यों में, बारिक तारों को जोड़ने में किया जाता है |

5.) रेजिन या रोजिन = इसका प्रयोग मुख्यतया बिजली के कार्य में होता है | इसका प्रयोग खाना पकाने के बर्तनों की सोल्डरिंग के लिए किया जाता है | यह 80 डिग्री सेंटीग्रेड से 100 डिग्री सेंटीग्रेड पर पिघल जाता है | इसे बिरोजा के नाम से भी जाना जाता है | इसका प्रयोग तांबे तथा पीतल की शीटों की सोल्डरिंग में भी किया जाता है।

[ यह भी पढ़ें ]

फ्लक्स के कार्य | Use of Flux in Soldering

👉 1. यह पिघले हुए सोल्डर को फैलाने में सहायता करता है |

👉 2. यह जंग लगने में बचाता है|

👉 3. यह गीली सतह तैयार करता है।

👉 4. यह ऑक्साइड को सोल्डरिंग करने वाली सतह से दूर करता है |

👉 5. यह सतह को साफ रखता है |

👉 6. फ्लक्स के कारण जोड़ पूरा और मजबूत बनता है |

महत्वपूर्ण पीडीऍफ़ पुस्तके
ITI Electrician Model Question Bank -1st year 2023
ITI COPA Model Paper TRADE THEORY 2023 Exam
Electrician Theory Gas Paper First Year 2023
आईटीआई इलेक्ट्रीशियन 3rd सेमेस्टर ट्रेड थ्योरी टॉप 100 ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन – 2013 To 2017 Back Trainee
Line Attendant PDF Book | लाइन परिचारक पीडीऍफ़ पुस्तक – 2023

[ यह भी पढ़ें ]

Final Word – तो इस पोस्ट सोल्डरिंग फ्लक्स पेस्ट क्या है | Soldering Flux Paste में हमने सोल्डरिंग फ्लक्स के बारे में पढ़ा | उम्मीद करते है यह पोस्ट आपके लिए महत्वपूर्ण रही होगी | कृपया इस पोस्ट को अपने साथियों के साथ भी जरुर शेयर करें और हमारे अगले पोस्ट की अपडेट पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया पर जुड़े |

#सोल्डरिंग फ्लक्स पेस्ट क्या है, #Soldering Flux Paste, #सोल्डरिंग फ्लक्स क्या है, #फ्लक्स कितने प्रकार के होते है, #Types Of Soldering Flux, #कोरोसिव फ्लक्स, #कोरोसिव फ्लक्स के प्रकार, #नॉन-कोरोसिव फ्लक्स, #नॉन-कोरोसिव फ्लक्स के प्रकार, #फ्लक्स के कार्य, #Use of Flux in Soldering

Leave a Comment

error: Content is protected !!
Scroll to Top